भयानक भूतो की कहानी - ghost stories in hindi - amjoys - हिंदी कहानीया

Latest

इस वेबसाइट पर आपको बहोत सारी कहानिया पढ़ने के लिए मिल जाएगी जैसे की ,बच्चो की कहानी,प्यार वाली कहानी,भूतो वाली कहानी और ढेर सारी कहानिया|

Wednesday, December 4, 2019

भयानक भूतो की कहानी - ghost stories in hindi

ghost stories in hindi 

हेलो दोस्तो,आज मैं आपके लिए बहुत ही खतरनाक और बहुत ही भयानक भूतो वाली कहानी ghost stories in hindi  लेकर आया हूं जिसे पढ़कर आपको भी डर लगने लगेगा।

ghost stories in hindi

तो ये ghost stories in hindi कहानी की शुरुआत होती है middle class परिवार से मतलब कि वह परिवार पूरी तरह से सुखी था किसी भी चीज की कोई भी कमी नहीं थी लेकिन वह कहते हैं ना खुशी पूरे जीवन हमारे पास नहीं रहती उस परिवार में चार लोग रहते थे एक पति-पत्नी और उनके दो बच्चे दोनों बच्चे पढ़ाई में अव्वल आते थे धीरे-धीरे दोनों बच्चे बड़े होते जा रहे थे एक बच्चे का हिरेन था, और दूसरी बच्ची का नाम सोनू था।
1 दिन हीरेन और सोनू की मम्मी माधवी बहन बीमार पड़ गए फिर माधवी बहन के पति रमेश भाई ने अपनी पत्नी को बहुत डॉक्टर के पास दिखाया लेकिन माधवी बेन बीमारी ही रहे,कुछ भी ठीक नहीं हुआ।
अब सारा परिवार टेंशन में आ जाता है और रमेश भाई ने बचाए हुए सारे पैसे भी खर्च हो जाते हैं रमेश भाई के दोनों बच्चे यानी कि हीरेन और सोनू को भी स्कूल से निकाल देते हैं क्योंकि उन दोनों की स्कूल फीस नहीं भरी थी।

फिर रमेश भाई तुरंत ही उनके दोस्त हार्दिक भाई से थोड़े पैसे उधार लेते हैं और हिरेन और सोनू की स्कूल फीस देते हैं लेकिन अभी भी रमेश भाई के सिर पर से टेंशन टला नहीं था क्योंकि उसकी पत्नी अभी भी बीमार थी, एक दिन रात को सब सो रहे थे तभी अचानक माधवी बेन खड़े होकर जोर-जोर से चिल्लाने लगते है,की मैं नहीं जाऊंगी मैं यही रहूंगी और सब को परेशान करती रहूंगी इतना बोलकर माधवी बहन जोर-जोर से हंसने लगते हैं तभी रमेश भाई और उनके दो बच्चे हिरेन और सोनू भी जाग जाते हैं,हीरेन और सोनू अपनी मम्मी को देखकर बहुत ही डर जाते हैं और रोने लगते हैं।
धीरे-धीरे पूरी सोसाइटी रमेश भाई के घर इकट्ठा हो जाती है और पूरी सोसाइटी देखने लगी कि क्या हुआ,क्या हुआ तभी माधवी बेन बोलने लगे कि मैं सब को परेशान करूंगी किसी को सोने नहीं दूंगी यह सुनकर रमेश भाई बहुत ही टेंशन में आ जाते हैं और जल्दी से माधवी बहन को एक नींद की गोली खिला देते है, ताकि वह अभी शांति से सो जाए जो होगा वह सुबह देखा जाएगा लेकिन ऐसा बिल्कुल भी नहीं हुआ माधवी बहन के शरीर पर वह नींद की गोली काम ही नहीं कर रही थी।
ghost-stories-in-hindi,horror story
ghost-stories-in-hindi

फिर माधवी बहन को उसके पति रमेश भाई ने मार-मार कर सुला तो दिया लेकिन उनके दो बच्चे हीरेन और सोनू अपने घर जा ही नहीं रहे थे,और हीरेन और सोनू खाना भी अपने पड़ोस के घर ही खाते थे,और रात को सोते भी अपने पड़ोस के घर ही,एक बार रमेश भाई अपनी पत्नी माधवी बहन को दुबारा अपने फैमिली डॉक्टर के पास ले जाते हैं फिर रमेश भाई उसके फैमिली डॉक्टर को पूरी यह कहानी बताते हैं फिर वह डॉक्टर माधवी बहन को देखते हैं और कुछ दवाई देते हैं,फिर डॉक्टर ने रमेश भाई को बोला मैंने यह 2 दिन की दवाई लिख दी है, इस दवाई से माधवि बहन ठीक हो जाएंगे रमेश भाई बोले ठीक है आपके कितने पैसे हुए डॉक्टर बोले रहने दीजिए रमेश भाई आपका बहुत खर्चा हो गया है बाद में कभी दे दीजिएगा ना पैसा इसमें क्या है रमेश भाई बोले आपका बहुत-बहुत धन्यवाद इतना कह कर वहां से दोनों अपने घर की ओर निकल पड़ते हैं।

हँसा-हँसा कर पागल कर देंगी ये कहानी आपको - एक बार जरूर पढ़े

तभी अचानक से रमेश भाई की पत्नी माधवी बहन इधर-उधर भागने लगते हैं और चार रास्ते पर जा कर बैठ जाती है धीरे-धीरे वहां पर बहुत सारे इंसान इकट्ठे हो जाते हैं रमेश भाई ने अपनी पत्नी माधवी बहन को कहा कि चलो घर इन सबके सामने मुझे बेइज्जत मत करो प्लीज घर चलो माधवी,माधवी बेन कोनसा घर, मेरा घर यहीं है मैं यही रहूंगी।
फिर छह-सात इंसान ने रमेश भाई की मदद की और माधवी बहन को खींच-खींचकर रिक्शा में बिठाया और घर ले गए,वह छह-सात इंसान ने रमेश भाई को कहा कि हमको तो लगता है कि यह सब आत्मा का खेल लगता है आप किसी अच्छे से तांत्रिक को दिखाओ वरना बहुत पछताओगे।
वह इंसान की बात सुनकर रमेश भाई एक तांत्रिक को उसके घर बुलाते हैं जैसे ही उस तांत्रिक ने रमेश भाई के घर पर, पैर रखा वैसे ही माधवी बहन जोर-जोर से चिल्लाने लगे और जोर-जोर से रोने लगे यह देखकर वह तांत्रिक बोला चुप होजा,कौन है तू और यहां क्यों आई है माधवी बहन के अंदर की आत्मा बोली मैं नहीं बताऊंगी तांत्रिक बोला ठीक है बताना मत लेकिन तुम माधवी बहन के शरीर में से जाने का क्या लोगी वह आत्मा बोली मुझे साड़ी और दो कंगन और दो चंपल की जोड़ी चाहिए इतना मुझे दे दो,यहां से मैं चली जाऊंगी तांत्रिक बोला सच में चली जाओगी ना कोई गेम तो नहीं खेल रही हमारे साथ, वह आत्मा गुस्से से बोली बोला ना मैंने चली जाऊंगी , मुझे अब वह सारी चीजें लाकर दो जो मैंने अभी कहा फिर वह तांत्रिक रमेश भाई को कहते हैं कि रमेश भाई आप बाजार चाहिए और यह सब चीजें लेकर आइये, रमेशभाई बोले ठीक है फिर रमेश भाई अपने दोस्त के पास से थोड़े पैसे उधार लेकर मार्केट से वह सब चीजें लेकर आते हैं थोड़ी देर बाद रमेश भाई वह सारी चीजें लेकर आ गए।

लालची इंसान की कहानी - आपको ये कहानी पढ़कर सबक मिलेगा

 और वह सारी चीजें उस तांत्रिक को देदी, तांत्रिक बोला यह लो तुम्हारी सब चीजें अब निकल जाओ यहां से,वह आत्मा बोली जाती हु,
5 minute बाद,
तांत्रिक बोला गई की नही तू,फिर वो तांत्रिक माधवी बेन को दो थप्पड़ लगा देते है,और बोलते है,की अभी तक तू गई नही इस शरीर से,तभी वो आत्मा गुस्से से बोली मार मत जा रही हु,तांत्रिक बोला निकल अभी के अभी पहेली फुरसत में निकल,फिर वो आत्मा थोड़ी देर के लिए वहासे चली जाती है,लेकिन रमेश भाई के दोनों बच्चे हिरेन और सोनू अपने घर आते ही नही थे,क्योकि वो बहुत ही डर गए थे,और हिरेन और सोनू अपने पदोश के घर ही सोते थे,
फिर वहासे जाते-जाते तांत्रिक ने रमेशभाई को कहा, रमेश भाई आप दवा और दुवा दोनों कीजियेगा,फिर रमेशभाई डर कर उस तांत्रिक पूछते है,की कोई परेशानी वाली बात है।
वो तांत्रिक बोला मुझे सन्देह हो रहा है,की वो आत्मा फिरसे आएगी,इसीलिए बोला रहा हु की दवा और दुआ दोनों कीजियेगा,रमेशभाई बोला ठीक है,माधवी की दवा तो शरू ही है,फिर वः तांत्रिक वहा से चला जाता है।

प्यार में धोखा - एक बार जरूर पढ़े दिल दहला देने वाली कहानी

फिर रात होती है,सब सो जाते है,सब यानी रमेशभाई और माधवी बेन उनके दो बच्चे हिरेन और सोनू तो पदोश में सोते थे,फिर रातको एक बजे माधवी बेन जागकर चिल्लाने लगते है,और बोलने लगते है,की में अभी गयी नही में अभी यही पर हु,तुम सबको क्या लगा वो तांत्रिक मुझे भगा देगा,कोई कुछ नही कर सकता मेरा,इतना बोलकर वो आत्मा जोर जोर से हँसने लगती है,
फिरसे पूरी सोसायटी रमेशभाई के घर इकठ्ठा हो जाती है,फिर रमेशभाई तुरन्त ही उस तांत्रिक को बुलाते है,थोड़ी देर बाद वो तांत्रिक रमेशभाई के घर आता है।
तांत्रिक उस आत्मा को बोला अभी तक तू गयी नही यहा से,निकल जा इस शरीर से और इस शरीर को मुक्त कर दे,ये सुनके वो आत्मा बोली बिलकुल नही,नही जाऊंगी इस शरीर से में,इतना बोलकर वो आत्मा जोर जोर से हँसने लगती है।
फिर वो तांत्रिक उस दुष्ट आत्मा को जैसे-तैसे करके सुला देता है,मार-मार कर फिर वह तांत्रिक ने रमेश भाई को बोला की मुझे यह कोई आत्मा नही लग रही,मुझे तो यह लगता है,की माधवी बेन को मानसिक बीमारी हो गई है,आप किसी अच्छे से अच्छे डॉक्टर को दिखाइये,रमेशभाई बोले में सब डॉक्टर को दिखा चूका हूँ लेकिन कुछ भी ठीक नही हुआ,
आपने किस डॉक्टर को बताया था,रमेश भाई हमारे फॅमिली डॉक्टर और दो-चार दूसरे डॉक्टर को बताया था,ये सूनके वो तांत्रिक बोला क्या वो साइकियाट्रिक डॉक्टर थे,रमेशभाई बोले वो तो पता नही मुझे।
ghost-stories-in-hindi,horror story
ghost-stories-in-hindi

ये सुनके वो तांत्रिक बोला आपको कोई बड़े से बड़े साइकियाट्रिक डॉक्टर को दिखाना पड़ेगा,वही डॉक्टर आपकी पत्नी का ठीक तरह से इलाज कर पाएगा,मुझे तो पक्का यकीन हो गया है,की माधवी बेन को मानसिक बीमारी ही हो गयी है,कुछ आत्मा बात्मा नही है,माधवी बेन के शरीर में।
इसिलए में बोलता हूं कि आप जल्दी से जल्दी कोई अच्छे साइकियाट्रिक डॉक्टर को दिखाइये,वरना आपकी पत्नी ठीक नही होगी।
ये सूनके रमेशभाई बोले thank you मदद करने के लिए में कल ही एक अच्छे से अच्छे
साइकियाट्रिक डॉक्टर को दिखा दूंगा,फिर वः तांत्रिक वहा से चला जाता है,
फिर अगले दिन वो रमेशभाई अपनी पत्नी माधवी बेन को लेकर अच्छे साइकियाट्रिक डॉक्टर के पास जाते है,और पूरी ये बात बताते है, वह डॉक्टर माधवी बेन के साथ पूरे 1 घंटे बातचीत करके रूम में से बाहर आते हैं,तभी रमेशभाई ने डॉक्टर से पूछा, क्या हुआ डॉक्टर साहब मेरी पत्नी ठीक तो है,ना डॉक्टर बोले आपकी पत्नी के अंदर कोई भूत-बूत नहीं है ये सब overthinking की वजह से हो रहा है।

बहुत ही अच्छी प्रेणादायक कहानी - एक बार जरूर पढ़े आपका जीवन बदल जाएगा

रमेश भाई बोले डॉक्टर साहब ये overthinking क्या है डॉक्टर बोले आपके साथ कोई भी बुरी घटना बनी हो और आप कई महीनों तक सिर्फ उसी बात को याद करते करते पछता रहे हो इसी को ओवरथिंकिंग करते हैं।
फिर रमेश भाई ने डॉक्टर से पूछा कि अब मेरी पत्नी कैसी है,डॉक्टर बोले अभी ठीक नही है लेकिन 2 दिन में ठीक कर दूंगा।
आप मुझे यह बताइए कि आपके घर में किसी को कोई बड़ी बीमारी हुई थी रमेश पर बोले हां मेरे बड़े भाई की पत्नी को ब्रेन ट्यूमर था और मेरे बड़े भाई की पत्नी भी पागलों वाली हरकत करती थी यह सुनकर डॉक्टर बोले बस इसी कारण से आपकी पत्नी का यह हाल हुआ है।
रमेश भाई बोले डॉक्टर मैं कुछ समझा नहीं डॉक्टर बोले जो कुछ भी आपके बड़े भाई की पत्नी के साथ हुआ वह सब आपकी पत्नी के दिमाग में फिट हो गया और दिमाग में घूमने लगा और और over thinking की बीमारी हो गयी।

थोड़ा हँसा भी लीजिये ये कहानी पढ़ कर - मजा आ जाएगा

इसीलिए आपकी पत्नी इतना हंगामा कर रही थी यह सुनके रमेश भाई बोले डॉक्टर इसका कोई सॉल्यूशन डॉक्टर बोले आपकी पत्नी को वह सब पुरानी बातें भुला नी होगी और इसके लिए आपको 6 इंजेक्शन दिलवाना पड़ेगा एक इंजेक्शन की कीमत ₹2500 रूपये है यह सुनकर रमेशभाई थोडे टेंशन में आ जाते हैं क्योंकि रमेश भाई के पास इतने पैसे बिल्कुल नहीं थे,
डॉक्टर बोले रमेश भाई क्या करना है इंजेक्शन देना है या नहीं और यह 6 के 6 इंजेक्शन आपकी पत्नी को एक साथ नहीं देना एक दिन छोड़कर एक इंजेक्शन देना है ठीक है,घबराइए मत,
रमेश भाई बोले डॉक्टर मेरी पत्नी ठीक तो हो जाएगी ना डॉक्टर बोले मैं हूं ना आपकी पत्नी को कुछ नहीं होने दूंगा में आप tension मत लीजिये।
फिर रमेश भाई बोले आप इलाज शुरू कीजिए मैं फीस जमा करवाता हूं डॉक्टर बोले ठीक है,
फिर रमेश भाई डॉक्टर की फीस 600 और इंजेक्शन की फीस 2500 ऐसे करके ₹3100 रूपये, जमा कराते हैं फिर वह डॉक्टर माधवी बेन को वह 2500 वाला इजेक्शन मारते है।

आत्मा होती है या नहीं - पढ़िए भूतो की कहानी

फिर डॉक्टर रमेशभाई को कहते है,की मेने इजेक्शन मार दिया है,आपकी पत्नी अभी सो रही है,एक या दो घंटो के बाद आप उन्हें घर ले जा सकते है,ये सुनके रमेशभाई बोले शुक्रिया आपका डॉक्टर साहब।
एक,दो घंटे बीत जाने के बाद रमेश भाई अपनी पत्नी माधवी बहन को जगाते है,और अपने घर ले जाते है,लेकिन माधवी बेन चल नही पा रहे थे,क्योकि वो गहरी नींद में थे इसीलिए,फिर रमेशभाई ने एक special रिक्शा करी अपने घर जाने के लिए,फिर घर पहोचते है,और माधवी बेन सो जाते है,लेकिन रमेशभाई के दोनों बच्चे हिरेन और सोनू अभी भी अपने घर नही जा रहे थे,क्योंकि उनको बहोत ही ज्यादा दर लग रहा था।
लेकिन रमेशभाई ने अपने दोनों बच्चों को समजाया की तुम दोनों डरो मत अब तुम्हारी मम्मी ठीक है,चलो आ जाओ इधर,फिर हिरेन और सोनू अपने घर चले जाते है।
माधवी बेन की तबियत अब धीरे धीरे बढ़िया होती जा रही थी,और धीरे-धीरे माधवी बेन वो सब पुराणी बाते भी भूलते जा रहे थे।
ऐसे चलते-चलते माधवी बेन ने 6 इजेक्शन दिलवा दिए,और पूरी तरह से चुस्त और तंदुरस्त हो गए,माधवी बेन वो सब पुराणी बाते भूल गए थे,जिसकी वजह से ये सब problem खड़ी हुई थी।
दोनों बच्चे भी अभी खुश थे,क्योकि उनकी मम्मी पहले जैसी हो गयी।
लेकिन रमेशभाई थोड़े परेशान थे,क्योकि रमेशभाई ने बहोत सारे पैसे खर्च कर दिए थे,इसीलिए फिर रमेश भाई ने अंत में अपने आप को भी ये कह कर मना लिया की कोई बात नही पैसे खर्च हुए तो,लेकिन मेरी पत्नी ठीक हो गयी ये ही सबसे बड़ी बात है।
जिसको पैसे देने है,उनको दे देंगे धीरे धीरे करके।
ऐसे करके अंत में सारा परिवार खुश था।

दो दोस्तों की दोस्ती बया करने वाली कहानी - एक बार जरूर पढ़े

फिर दूसरे दिन रमेशभाई के बड़े भाई हार्दिक भाई माधवी बेन की तबीयत पूछने आये,हार्दिक भाई बोले अब कैसी है,आपकी तबियत माधवी बेन स्फूर्तिये अंदाज में बोले की " सूर्य अस्त हम सब मस्त " ये सुनके हार्दिक भाई और सारा परिवार हँसने लगा,फिर हार्दिक भाई ने रमेशभाई को बोला की में क्या कहता हूं रमेश तुम फॅमिली के साथ कहि 1 या 2 दिन तक बहार घूम कर आओ,इससे पूरा परिवार fresh हो जाए,ये सुनके रमेशभाई आपने बहोत ही अच्छी बात की में कल ही water park घूमने ले जाऊंगा सबको।
फिर रमेश भाई and family water park घूमने के लिए रवाना हो जाते है।
और सब ख़ुशी से रहते है।

वो कहते है ना "अंत भला तो सब भला"।

बोध ) -  अरे यार आप छोटी-छोटी बात पर depress क्यों होते हो,जिंदगी आपको depress होने के लिए थोड़ी ना मिली है,खुलके जियो यार बिंदास से दुःख आज है,तो कल चला जाएगा यार,तुम्हे भी पता है,की इस दुनिया में कोई भी चीज परमेनेंट नही है,
अगर तुम्हारे पास पैसे नही है,तो महेनत करो कमाओ,इसमें tension कैसा।

श्री मद भागवत गीता में साफ़ शब्दो में लिखा है कि "चिन्ता चिता समान है"।

आज कल के सारे घरो की कहानी - एक बार जरूर पढ़े

इसीलिए में कहता हूं कि चिंता मत करो छोटी-छोटी बात पर depress मत हुआ करो,किसी भी बात को serious मत लो,
अगर किसी बात को सीरियस लेना ही है,तो किसी हॉस्पिटल चले जाओ,वहा सब तुम्हे serious ही मिलेंगे।

आपसे एक बात कहना चाहूंगा कि यह 21 की सदी के इंसान छोटी-छोटी बात पर इतना tension जताते है,की इतना tension 19 मि सदी के पागल मरिजे जताते थे।

किसीको को exam का tension, किसीको बीवी का टेंशन,किसीको पैसे का tension,किसीको job न लगने का tension,
अरे यार कितना tension लोगे आप,आप ये सोचिये अगर job लगनी है,तो लगे वरना भाड़मे जाए,खुदका धंधा शरू करूँगा,अरे चाय भी बेचूंगा,लेकिन कभी tension नही लूंगा।

में आपको एक example देता हूं,एक बार एक इंसान ने भगवान से पूछा की भगवान आपने मुझे इतना दुःखी क्यों बनाया, भगवान बोले मेने तो सबको सुखी ही बनाया था,लेकिन सब लोग एक दूसरे की चीज को देखकर दुखी हो जाते है,इसमें में क्या करूँ।

मुश्किलों से डरो मत यार उसका सामना करो

इसीलिए कहता हूं tension मत लो,over thinking मत करो,जो होगा वो देखा जाएगा,बस खुल कर जियो,छोटी छोटी बाते पर हँसना सीखो।

और ऐसे ही हमारी भूतो की कहानी ghost stories in hindi खत्म होती,है वैसे इसे भुत की कहानी तो नही कहते इसे motivational कहानी कहते है,
खेर आप comment करके ये बताइये की आपको हमारी कहानी कैसी लगी।
अगली कहानी में हमारी आपके साथ फिर से मुलाकात होगी तब तक के लिए " अलविदा "

ऐसी ही हमारी कहानिया पढ़ते रहिये और हमें इसी तरह support करते रहिये,
अगली कहानी में फिर मिलूंगा।

                                                                                                 आपका दोस्त Amit

                           कहानी पढ़ने के लिए धन्यवाद

No comments:

Post a Comment