मोटिवेशनल कहानी || real life inspirational stories in hindi - amjoys - हिंदी कहानीया

Latest

इस वेबसाइट पर आपको बहोत सारी कहानिया पढ़ने के लिए मिल जाएगी जैसे की ,बच्चो की कहानी,प्यार वाली कहानी,भूतो वाली कहानी और ढेर सारी कहानिया|

Saturday, September 21, 2019

मोटिवेशनल कहानी || real life inspirational stories in hindi

inspirational story in hindi language

हेलो दोस्तो,आज में आपके लिए फिरसे नई inspirational story लेकर आया हु,जिसे पढ़ने के बाद आप हर बड़ी से बड़ी मुसिबत का
सामना कर पाएंगे।

inspirational story in hindi

तो ये कहानी है,उस दिनों जब एक लड़का 12 science की exam pass होकर engineering में admission लिया।
उस लड़के का नाम था विवेक।
विवेक बहोत ही scholar लड़का था,उसको 12 science के maths subject में 100 में से 100 मार्क्स थे,वो gold medalist था।
जब वो कॉलेज में आया तो college का culture,स्कूल के culture बहोत ही अलग था।
उसने देखा कि जब क्लास में lecture शरू होता है,तो कोई लेक्चर भरता नही,बहार दोस्तो के साथ गप्पे मार ते रहते है।
inspirational-story
Vivek
inspirational-story

और college सारे student regular आते भी नही,उनको जब मन पड़े तब बंक मार देते थे। विवेक ये सब observe कर रहा था,
विवेक के अब कई सारे नए दोस्त भी बन गए थे।
जब विवेक लेक्चर भरने क्लास में बैठता तब,उसको कुछ समझ मे ही नही आता कि sir पढ़ा क्या रहे है।ऐसे-ऐसे दिन बीतते जाते है,और विवेक भी बाकी सारे student की तरह बंक मारना सिख जाता है।और ऐसे करते-करते college mid sem exam आती है,और विवेक उस exam में 5 में से 1 subject में फैल हो जाता है,उसको दुःख लगता है,क्योकि वो gold medalist था,वो सोचने लगा कि में school में gold medalist था,और college वालो ने मुजे फैल कर दिया।

हँसा-हँसा कर रुला देंगी ये कहानी आपको एक बार जरूर पढ़िए|

फिर विवेक ने positive सोचा कोई बात नही फिरसे exam दे देंगे,इस बहाने revision तो हो जाएगा।फिर विवेक वापस वो exam देता है,और उसमें fully पास हो जाता है,ये देखकर विवेक खुश हो जाता है।
inspirational-story
Engineering (inspirational-story)

ऐसे करते-करते विवेक की final exam यानी कि university की exam आती है,और विवेक exam देता है।और उस exam result तीन महीने बाद आया,विवेक अपना result देख कर चौक जाता है।
वो अपनी university की exam में 5 subject में से 3 subject में fail हो जाता है। वो डिप्रेशन में चला जाता है,और सोचने लगता है,की अब में engineering छोड़ दूंगा,मुझे कुछ समझ मे ही नही आ रहा।

सच्ची प्यार वाली कहानी एक बार जरूर पढ़िए|

विवेक ये बात अपने दोस्त को बताता है,की में अब engineering छोड़ रहा हु,मुझे कुछ समझ मे ही नही आ रहा।और उस दोस्त का
नाम था मयूर। मयूर बोला यार विवेक में भी यही सोच रहा हु की में भी engineering छोड़ दु मुजे भी कुछ समझ मे नही आ रहा है।
inspirational-story
Mayur (inspirational-story)

फिर मयूर और विवेक दोनो college तो आते थे,मगर  लेक्चर नही भरते थे,college का टाइम था 11 बजे से लेकर 5 बजे तक का लेकिन मयूर और विवेक 11 बजे आते थे और एक बजे अपने घर चले जाते थे।

बेहद ही खतरनाख भूतो वाली कहानी|

फिर मयूर और विवेक ने अपने घर पर बताया कि में अब engineering करना नही चाहता मुझे कुछ समझ मे ही नही आ रहा है।ये बात मयूर के मम्मी-पापा मान गए और बोले कोई बात नही तुजसे engineering नही हो पाता तो छोड़ दे कोई और डिग्री ले लेना।
लेकिन विवेक के मम्मी-पापा नही माने उन्होंने विवेक को समजाया बेटा तुम engineering छोड़ने की बात इसीलिए कर रहे हो कि तुम कभी fail ही नही हुए।और अब engineering में आकर पहेली बार fail हुए,इसीलिए तुम थोड़ा सा डर गए हो।

इस कहानी को पढ़ने के बाद आप हर मुसीबत का सामना कर पाएंगे|

इस बार पास नही हुए तो क्या हुआ अगली बार try करना ऐसे हार नही मानते।
Try and try will be success ये बात याद रखना ठीक है।विवेक बोला ठीक है,में कभी हार नही मानूँगा।
और दूसरे दिन विवेक,मयूर को बताता है,की मयूर अब में engineering नही छोड़ रहा हु,मयूर बोला क्यों। फिर विवेक जो बात उसके पापा ने उसे बताई थी वो बात विवेक मयूर को बताता है।

मयूर बोला बात तो तेरे पापा 100% सही है।में भी हार नही मानूँगा।इस बार fail हुआ तो क्या हम अगले exam में 9++ SPI लाएंगे ठीक है।
फिर दोनो bahot hard पढ़ाई करना शरू कर देते है।और देखते ही देखते दोनो को 2nd semester को exam 9++ SPI आ गए, और पूरे college में top लर डाला।

पहले का जीवन कैसा था और आज का जीवन कैसा है एक बार जरूर पढ़े|

ये सब देखकर दोनो बेहद ही खुश होते है।
और विवेक अपने पापा का शुक्रिया अदा करता है,और बोलता है, की thank you पापा मुझे
सही समय पर सही मार्गदर्शन देने के लिए।
विवेक के पापा बोले उसमे thank you कैसा तुम्हे सही मार्गदर्शन तुम्हारे पापा नही देंगे तो और देंगे।

और ऐसे ही हमारी real life inspirational stories in hindi यहा पर खत्म होती है,अगली story में फिर मिलूंगा ,ऐसे ही मजेदार story लेकर अगली post में वापस आऊंगा।

बहोत ही हॅसनेवाली कहानी|

तब तक के लिए "अलविदा"

फैला दीजिये इस कहानी को हर जगह,और अपने सारे दोस्तो को share कर दीजिए।

                                  *कहानी पढ़ने के लिए धन्यवाद*

No comments:

Post a Comment