दो दोस्तों की सच्ची कहानी || friendship story in hindi - amjoys - हिंदी कहानीया

Latest

इस वेबसाइट पर आपको बहोत सारी कहानिया पढ़ने के लिए मिल जाएगी जैसे की ,बच्चो की कहानी,प्यार वाली कहानी,भूतो वाली कहानी और ढेर सारी कहानिया|

Wednesday, September 18, 2019

दो दोस्तों की सच्ची कहानी || friendship story in hindi

heart touching friendship story in hindi


हेलो दोस्तो,आज में आपके लिए बहोत ही बढ़िया कहानी लेकर आया हु,जिसे पढ़कर आपको मजा आ जाएगा।

sad friendship story in hindi

ये कहानी दो पक्के दोस्त पर आधारित है।

heart touching friendship story in hindi start

तो ये बात है,उस समय की जब राहुल और मयूर दोनो पक्के दोस्त थे।इन दोनों के अलावा इनके group में पूरे nine friend थे।लेकिन मयूर और राहुल की दोस्ती कुछ ज्यादा ही गहरी थी।
मयूर उसके सारे friend की तरह बहुत ज्यादा पैसा नही खर्च पाता था।क्योंकि उसके घर की परिस्थिति बहोत ही खराब थी।और मयूर का सारा खर्च राहुल ही उठाता था।
क्योकि राहुल को पता था,की मयूर के घर की
परिस्थिति बहोत ही खराब है।
friendship-story-in-hindi
friendship-story-in-hindi

फिर आता है,मयूर का birthday लेकिन ये बात उसके nine group में से किसीको भी पता नही था,और मयूर ने भी किसीको नही बताया कि आज मेरा बर्थडे है।
फिर दोपहर होती है,और अचानक से राहुल का फोन आता है,और राहुल,मयूर से बोलता है,की क्या आज तेरा birthday है।मयूर बोला नही आज मेरा birthday नही है।(मयूर ने ऐसा इसीलिए कहा कि उसके पास पैसे थे नहीं, और ये सोचने लगा कि वो मेरे दोस्त मुझसे party मांगेगे तो पैसे कहा से लाऊंगा।)
फिर राहुल बहुत ही कहा जूठ मत बोल सच बता आज तेरा birthday है,ना।
मयूर बोला सचमे यार मेरा आज birthday नही है।

हँसा-हँसा कर रुला देंगी ये कहानी आपको एक बार जरूर पढ़िए|

फिर राहुल बोला ठीक है,आज से हमारी दोस्ती खत्म ठीक है,मयूर बोला रुको-रुको हा आज मेरा birthday है,लेकिन तुजे कैसे पता चला।
राहुल बोला मुजे कहि से भी पता चला,तू आज
शाम को 5 बजे tuition आ रहा है ना नए कपड़े पहन कर।मयूर बोला हा आ रहा हु,लेकिन मयूर के पास नए कपड़े भी नही थे।फिर वो थोड़े नए और पुराने कपड़े पहन कर tuition गया।
friendship-story-in-hindi
friendship-story-in-hindi
group friend's

और उसके group के nine friend बोले अरे क्या बात है,मयूर तुम तो इस कपडे में एक दम srk की तरह लग रहे हो।मयूर बोला thank you.
फिर सब मयूर को birthday wish करते है,फिर सब friends tuition में lecture भरने के लिए चले जाते है।और जब tuition में break आया तब मयूर toilet गया।
और जैसे ही मयूर toilet गया वैसे ही राहुल ने
मयूर के beg म चॉकलेट का डिब्बा रख दिया।
जैसे ही मयूर वापस आया और उसने अपना बैग खोला और देखा तो उसमें पूरा चॉकलेट का
डिब्बा था।

पहले का जीवन कैसा था और आज का जीवन कैसा है एक बार जरूर पढ़िए|

मयूर को सब समझ मे आ गया था कि ये सब
मेरे friends ने ही किया है,और सबको चॉकलेट खिलाता है और साबको धन्यवाद कहता है,मेरे लिए ईतना कुछ करने के लिए।
सब friends बोले अरे इसमें धन्यवाद क्या तुम तो हम सब के लाडले दोस्त हो।

फिर tuition में सबकी छुट्टी हॉती है,फिर राहुल,और सारे friend बोले मयूर तुम अब घर जाओ,हमे थोड़ा सा काम है,इसीलिए हम मार्केट में जा रहे है,ठीक है।मयूर बोला इसमें क्या है,में भी तुम्हारे साथ आता हूं,ना।राहुल बोला हमको मार्केट में रात के 10 से 11 बज जाएंगे,इसलिए।मयूर बोला ooo इतने सारे बज जाएंगे,तो ठीक है,तुम सब जाओ मार्किट में किसी और दिन तुम सब के साथ आऊंगा।
फिर मयूर अपनी cycle लेकर अपने घर जाता है।

बहुत ही खतरनाख भूतो वाली कहानी|

और अपने मम्मी-पापा को बताता है,की पापा आज मेरे सारे दोस्तो ने मेरा tuition में birthday बनाया।
जैसे ही मयूर ये बोला वैसे ही बाहर से आवाज आई मयूर ओ मयूर दरवाजा खोल तेरे घर का।
फिर मयूर दरवाजा खोलता।और मयूर बोला राहुल और पूरा अपना group मेरे घर तुम सब तो मार्किट जाने वाले थे,ना और इस थैली में क्या है।
राहुल बोला तुम पहले हमें अंदर तो आने दो।
मयूर बोला sorry-sorry आओ-आओ अंदर।
friendship-story-in-hindi
friendship-story-in-hindi

फिर राहुल वो थैली खोलता है,और उसमें से केक निकालता है,मयूर ये देखकर बेहद ही खुश हो गया।और सारे दोस्तो ने मयूर का birthday
बेहद ही धूम-धाम से बनाया।फिर सारे दोस्त बोले ठीक है मयूर अब हम चलते है।फिर तुरन्त ही मयूर के मम्मी बोले क्या चलते है,मेने तुम सब के लिए इडली-वड़ा बनाया,खाकर ही जाओ आप सब ठीक है।

आखिर प्यार तो होना ही था - एक बार ये भी पढ़िए|

फिर मयूर और सारे दोस्त जम कर खाना खाते है।और इसीतरह मयूर का birthday धूम-धाम से समाप्त होता है।
ऐसे ही सारे फ्रेंड्स सबके birthday  celebrate करते थे,और बहोत ही मजा करते थे अपने जीवन मे।
कोई भी फ़्रेंड्स किसीको दुःखी नही देख सकते थे।
सब त्योहार मिल जुलकर बेहद उत्साह और मस्ती से बनाते है।

अब 10 साल बाद
सारे अपने जिगर जान यार एक दूसरे से बिछड़ जाते है।
मयूर ये सब पुराने दिनों को याद कर रहा था,और रो भी रहा था।

इस कहानी को पढ़ने के बाद आप हर समस्या का हल निकल पाएंगे|

मयूर के दूसरे दोस्त ने बोला मयूर तुम रो क्यो रहे हो,मयूर बोला तब मेरे पास पैसे नही थे।लेकिन पैसे से कई गुना कीमती मेरे दोस्त मेरे साथ थे।
आज मेरे पास सब कुछ है,गाड़ी है,पैसा सब कुछ है,लेकिन मेरे वो यार नही है।
काश वो दिन वापस आ जाए।

और ऐसे ही हमारी heart touching friendship story in hindi कहानी खत्म होती है।
भेज दीजिये ये कहानी अपने जिगर जान यार को और बोल दीजिये की हम सब पूरे जीवन दोस्त ही रहेंगे अरे दोस्त क्या भाई बनकर रहेंगे।

प्यार वाली कहानी |

"जब भाई,दोस्त और दोस्त,भाई बन जाता है,तब समझ लीजिए आपका इस धरती पर धक्का खाली नही गया।"

अगली कहानी में फिर मिलूंगा तब तक के लिए। "अलविदा"

*कहानी पढ़ने के लिए धन्यवाद*

No comments:

Post a Comment