Funny Story In Hindi Part -2 || ये कहानी हँसा-हँसा कर पागल कर देंगी - amjoys - हिंदी कहानीया

Latest

इस वेबसाइट पर आपको बहोत सारी कहानिया पढ़ने के लिए मिल जाएगी जैसे की ,बच्चो की कहानी,प्यार वाली कहानी,भूतो वाली कहानी और ढेर सारी कहानिया|

Saturday, September 14, 2019

Funny Story In Hindi Part -2 || ये कहानी हँसा-हँसा कर पागल कर देंगी

Short Funny Story In Hindi 

हेलो दोस्तो,आज में आपके लिए एक खतरनाख,भयंकर comedy कहानी लेकर आया हु जिसे पढ़ने के बाद हँस-हँस कर लौट-पॉट हो जाएंगे।
तो आप पढ़ना शरू कीजिये,में लिखना शरू करता हु।

funny story in hindi for whatsapp 

ये कहानी का part - 2 है। आपने पहला part नही पढ़ा तो पढ लीजिये नीचे उसका लिंक दिया ही है।

बाथरूम में पानी बंद हो गया|

short funny stories morals hindi start

तो ये कहानी है,"गई भेश पानी" सोसायटी की बड़ी ही मजेदार सोसायटी थी।
कभी-कभी सारे सोसायटी वाले मिल जुलकर कर रहते थे,और कभी-कभी इस सोसायटी में किसीका जगडा भी हो जाता था।अपने पहेले पार्ट में पढ़ा होगा कैसे किरण भाई और
"गई भेश पानी" सोसायटी के एक मेव सेक्रेटरी
मुकेश भाई चुना लगाने वाले कैसे जगड रहे थे।एक संडास के लिए।
तो इस बार भी होता है,कुछ ऐसा ही
उस सोसायटी में राजू भाई नाम के एक इंसान रहते थे बड़े ही मजेदार इंसान थे,और उसकी family में उसकी पत्नी थी, कुल 2 इंसान रह रहे थे, दोनो बड़े ही मजेदार थे,वो दोनो थे गुजराती मगर मुम्बई में रहने जाने की वजह थोड़ी-थोड़ी हिंदी भी बोलते थे। राजुभाई की पत्नी का नाम कोकिला था।
Funny-story-in-hindi
Rajubhai

एक दिन होता है,कुछ ऐसा की राजू भाई,कोकिला को कहते है,की मेरे लिए अच्छा सा खाना बना,में "गई भेश पानी"सोसायटी के एक मेव सेक्रेटरी मुकेशभाई चुना लगाने वाले को अपना मेंटेंनस देके आता हूं।
कोकिला बेन बोले પાછા જલ્દી આવજો ત્યાં ને ત્યાં ગુડાય નય રહેતા.
 राजू भाई बोले હા પણ હવે. तुम जल्दी से मेरे लिए खाना बनाओ,मुजे बहोत ही भूख लगी है।
कोकिला बेन बोले हा, बनाती हु,पहेले आप बताते जाइये की में आपके लिए आज खाने में क्या बनावु।

ये कहानी पढ़ कर आपके जीवन की सारी समस्या ख़तम हो जाएगी|

दूधी का हलवा बनावु,उंधियू बनावु या फिर मिष्टान गुलाबजाम्बु बनावु,राजुभाई बोले
ओ-हो-हो कोकिला ये सुनके मेरे मुंह मे से पानी आ गया एक काम करो,सब बना डालो।में तुरन्त ये मेन्टेन्स का चेक देकर आया।
कोकिला बेन बोले ओ रुको मेरे पति परमेश्वर
राजुभाई बोले मालती मेने तुमको कितनी बार बोला ऐसे किसी को भी पीछे से टोकते नही है,बताओ क्या हुआ।कोकिला बेन हस कर बोलते है,की मेने जो आपको ये सब मिष्टान बताया वो नही बन सकता।
राजुभाई बोले देख कोकिला मुझे ऐसा मजाक बिल्कुल पसंद नही है,क्यों ये सब नही बन सकता।कोकिला बेन बोले क्योकि ये सब हमारे घर ने है,ही नही सिर्फ एक करेला ही पड़ा है,आप बोले तो करेले का शाक बनाडू।
फिर राजू भाई वहासे मुह बिगाड़ कर चले जाते है।
Funny-story-in-hindi
"गई भेश पानी" सोसायटी

और पहोचते है,"गई भेश पानी" सोसायटी की सेक्रेटरी मुकेश भाई चुना लगानेवाले के पास।
और राजुभाई , मुकेशभाई की तारीफ करने लगते है,क्योकि वो बहोत ही late मैन्टेन्स का चेक सेक्रेटरी के पास देने जा रहे थे,राजू भाई को दंड ना हो इसीलिए वो मुकेशभाई चुना लगाने वाले कि तारीफ करने लगते है कि,मालती भाभी आप सच नही मानेंगे मेने notice किया है,पूरे गुजरात मे मुकेशभाई जैसा सेक्रेटरी कोई नही है।मुकेश भाई बोले लेकिन हम तो महाराष्ट्र में रहते है।राजुभाई बोले अच्छा हम महाराष्ट्र में रहते है,देखा आपने मालती भाभी देखा,कैसे छोटी-छोटी गलतियां पकड़ लेता है,गले मिलो मुकेशभाई गले मिलो सब सोसायटी का सेक्रेटरी ऐसा ही  होना चाहिए,ऐसा मुकेश भाई जैसा।में तो भगवान से प्राथना करूँगा की हम सोसायटी को इस
"गई भेश पानी"सोसायटी जैसा सेक्रेटरी मिले।

हँसा-हँसा कर रुला देंगी ये कहानी एक बार जरूर पढ़िए|

मुकेशभाई बोले thank you राजुभाई मेरी इतनी तारीफ करने के लिए।राजुभाई बोले अरे उसमे क्या में हमेशा सच ही बोलता हूं।
फिर मुकेशभाई बोले लेकिन तुम इतनी सुबह-सुबह मेरे घर लगता है,कोकिला भाभी ने घर
से निकाल दिया।राजुभाई बोले देखा मालती भाभी देखा आपने मजाक भी बहोत करता है।
में यहाँ पे "गई भेश पानी"सोसायटी के मेंटेंनस
देने आया हु।मुकेश भाई बोले ओ अच्छा लाओ जल्दी फिर मुकेश भाई सोसायटी की फाइल निकालते है,और सब चेक करते है।
राजू भाई बोले मालती भाभी एक cup गरमा-गरम चाय मिल सकती है।मालती बेन बोले अरे राजुभाई इसमें कोनसी बड़ी बात है,में अभी लेकर आता हूं,आप रुकिए।राजुभाई बोले अरे कोई बात नही में खाना भी यही खाकर जाऊंगा।
मालतिबेन बोले आप कुछ बोले राजुभाई।राजुभाई बोले नही कुछ नही बोला।
तभी मुकेशभाई चुना लगाने वाले बोलते है,की राजुभाई तुम्हे 500 रुपये का दंड हुआ है,क्योकि मैन्टेन्स भरने की last date 10 थी और आज 15 तारीख है,इसीलिए 500 रुपये और देने होंगे।
Funny-story-in-hindi
Mukesh bhai

ये सुनके राजुभाई अपना नाटक शरू कर देते है,अरे आज पंद्रह तारीख है,ले मेतो यही सोच रहा था की आज आज 8 तारीख है।आप मुजे 500 रुपये दे रहे है,ना, मुकेशभाई बोले में नही दे रहा हु,तुम्हे 500 रुपये मुझे देने है।राजुभाई
बोले अच्छा मुजे आपको 500 रुपये देना है,बरोबर,में क्या कहता हूं में आपका पडोशी हु।मुकेशभाई बोले तो उसमें क्या है,राजुभाई बोले तो कुछ कम नही हो सकता ।मुकेशभाई बोले में इसमें कुछ नही कर सकता,जल्दी 500 रुपये निकालो।

पहले का जीवन कैसा था और आज का दिन कैसा है एक बार जरूर पढ़िए,बहोत ही अच्छी बाते कही है|

फिर राजुभाई मुह बिगाड़ कर 500 रुपये देते है,और बोलते है,भगवान ऐसा सेक्रेटरी किसीको न दे।एक दम बकवास सेक्रेटरी हो।मुकेश भाई बोले क्या बकवास कर रहे हो तुम।
राजुभाई बोले बकवास नही सच बोल रहा हु,बंदर जैसी शक्ल है,तुम्हारी और और नाक जोकर जैसी टकले कहिके।मुकेश भाई गुस्से में बोले राजू तूने मुझे टकला बोला में टकला तो तुम भुखन,donkey और कुत्ता।राजुभाई गुस्से में बोले मुकेश तूने मुझे कुत्ता बोला में कुत्ता तो तुम मेरी कुतिया ,इतना कह कर राजुभाई वहाँ भाग जाते है।

मुकेशभाई गुस्से में बोले तुमने मुझे कुतिया बोला,कहा गया वी कुत्ता अबे रुक गधे के बच्चे रुक,साल भाग गया,दूसरे महीने जब मैन्टेन्स का चेक देने आएगा,तब देख लूंगा।
तभी वहां मालती बेन आते है,और मुकेश भाई को बोलते है,आपने राजुभाई को देखा में उनके लिए चाय बनाकर लाई हु।
मुकेश भाई गुस्से में बोले जब भी वो गधे का बच्चा राजू हमारे घर पर आए,तुम उसके लिए चाय नही बनाओगी, और पानी तक का नही
पूछोंगी,ठीक है,अब ये चाय लाओ में पी लेता हूं।

भूतो की कहानी|

और ऐसी ही हमारी  Short Funny Story कहानी यहा पर खत्म होती है।
फैला दीजिये इस कहानी को हर जगह,अपने परिवार को अपने दोस्तों को शेयर कीजिये।

अगली कहानी में हमारी आपके साथ फिर से
मुलाकात होगी तब तक के लिए "अलविदा"

"जय हिंद"

                                          *कहानी पढ़ने के लिए धन्यवाद*

No comments:

Post a Comment