Hindi story for kids || hindi story for kids with moral - amjoys - हिंदी कहानीया

Latest

इस वेबसाइट पर आपको बहोत सारी कहानिया पढ़ने के लिए मिल जाएगी जैसे की ,बच्चो की कहानी,प्यार वाली कहानी,भूतो वाली कहानी और ढेर सारी कहानिया|

Friday, August 16, 2019

Hindi story for kids || hindi story for kids with moral

hindi story for kids with moral



Hello guys,
में आपके लिए फिरसे नई कॉमेडी कहानी लेकर आ गया हूं। उम्मीद है आपको ये कॉमेडी कहानी पसंद आएगी।

ये स्टोरी आप ध्यान से पढियेगा।कोई भी लाइन
आपको हँसा-हँसा कर रुलादेंगी।
तो मैं स्टोरी लिखना शरू करता हु |


hindi story for kids with moral

Hindi story for kids
kids

एक बड़ा सा गांव था। उसमे सब लोग मजे से रह रहे थें।उस गांव में एक लड़का भी रह रहा था।
उस लड़के का नाम चिंटू था।एक दिन चिन्तु
को विचार आया कि क्यों ना में कुछ दिनों
के लिए शहर घूम के आउ।

Hindi story for kids
gaav


फिर चिंटू गांव से शहर गया।शहर जाते ही अचानक से चिंटू को याद आया कि में..
Toilet जाना तो भूल ही गया।
फिर चिंटू toilet की ओर जाता है।तो
Toilet में होता कुछ भी नही।आप डरिये मत।
चिंटू टॉयलेट करके वापस आ जाता है।


फिर चिंटू थोड़ा सा आगे बढ़ता है।तो अचानक
से चिंटू के फोन पर किसीका फ़ोन आता है।
चिंटू ये सोच रहा था कि ये फ़ोन उठावु या न
उठावु।
फिर चिन्तु ने ये सोच ही लिया कि ये फ़ोन में
उठा लेता हूं।
चिंटू डरते - डरते वो फ़ोन उठाता है।
फिर चिंटू फ़ोन पे बात करता है।

आपको क्या लगता है,चिंटू के फ़ोन पर किसका फ़ोन आया होगा।
आपको नही सोचना है,सोचने का काम तो
हमारा है।

तो में आपको बताता हूं,की चिंटू के फ़ोन पर
किसका फ़ोन आया था।
चिंटू के फ़ोन पर (ध्यान से पढियेगा)
एक टेलीकॉम कंपनी का फ़ोन आया था।
ओर टेलीकॉम कंपनी वाले बोले नमस्कार
चिंटू जी,आपका फ़ोन बैलेन्स खत्म हो चुका
है,कृप्या करके आपके मोबाइल में बैलेंस पुराइये।
मुजे पता है,की आप मन ही मन हस रहे है।

फिर चिंटू उस टेलीकॉम कंपनी से कहता है,कि
अरे बुड़बक कहिका, इधर मेरी जिंदगी का
बैलेंस खत्म हो चुका है।ओर में इस
फ़ोन में बैलेंस पुरावू।
रख फोन साले रख।
फिर टेलीकॉम वाला आदमी फ़ोन काट देता है।

फिर चिंटू वहासे आगे बढ़ता है।और ट्राफिक
सिग्नल पर पहुचता है।
ट्राफिक सिग्नल पर पहोचते ही चिन्तु को
अचानक से एक इंसान मिलता है।उस
इंसान का नाम पिंटू था।


Hindi story for kids
pintu

उस इंसान यानी कि वो पिंटू,चिंटू से 20 से 25
साल बड़ा था।
फिर पिंटू - चिंटू से कहता है कि तुम्हारी जान
खतरे में है,बच्चे।
ये सुन ते ही चिंटू डर जाता है।
ओर वो इंसान यानी कि पिंटू जो कुछ भी
बोलता है,वो सब कुछ चिंटू एक नोटबुक में नोट
करने लगता है।
फिर वो इंसान यानी कि वो पिंटू बोला - सुन
बच्चे जब तू ये ट्रैफिक सिग्नल cross करेगा,तब ये ट्राफिक सिग्नल red हो जाएगा।
चिंटू ये सब नॉट कर रहा था।


पिंटू बोला ट्राफिक सिग्नल red हो जाने के बाद
सारी गाड़िया रुक जाएगी।
चिंटू बोला फिर क्या होगा जल्दी से बोलिये।
पिंटू हस कर बोला - होगा कुछ भी नही जब
तुम ट्रैफिक सिग्नल cross करो,तो ध्यान से
करना ,वो क्या है ना ,तुम्हे चोट - बोट लग गई
तो।
ये सुनते ही चिन्तु को गुस्सा आता है।
जैसे चिंटू कुछ बोलने जाए , वैसे ही पिंटू उधर से भाग जाता है।
चिंटू जैसे-तैसे करके उसका गुस्सा शांत करता
है।और आगे बढ़ता है।

ALSO READ - जूनून दिला देने वाली कहानी

थोड़ा सा आगे बढ़ते ही उसको एक फ़ोन
बेचने वाला मिलता है।
फ़ोन बेचने वाला भैया कहता है - सर ये फ़ोन
लेलो।
चिंटू वहाँ रुकता है । और फ़ोन बेचने वाले को
कहता है,की कितने का दिया है ये फ़ोन।
फ़ोन बेचने वाला भैया बोलता है कि इस
फ़ोन की कीमत वैसे तो 90,000 है।पर आपके
लिए 80,000 में बस।
ये सुनके चिंटू बोला क्या भाई इसमे कुछ
सोना - बोना मिलाया है,क्या।इतना महँगा
फ़ोन ,मुझे नही लेना ये लीजिये आपका फ़ोन, में जाता हूं।

फोन बेचने वाला बोला - ठीक है, साहब आप
संडास जाकर आइये फिर खरीद लेना।
चिंटू बोला तुजे किसने बोला की में संडास
जाकर फोन खरीदूंगा।
फोन बेचने वाला बोला - सर आप ही ने तो
कहा कि में जाता हूं।
चिंटू बोला जाता हूं का मतलब घर जाता हूं संडास नही।
फोन बेचने वाला मस्ती में बोला कि- सर आपका मतलब ये है कि आप कभी संडास
जाते ही नही है।

चिंटू को गुस्सा आता है , ओर बोलता है क्या,
मेरा मजाक उड़ाता है तू,एक बार बोला ना
नही खरीदना फोन।
फोन बेचने वाला भैया बोला - वैसे तुम्हारी
शक्ल भी नही है,ये फ़ोन खरीद ने की समजे।
चिंटू बोला - क्या बक रहा है,तू।
फोन वाला बोला - सच तो कह रहा हु।
फिर चिंटू को गुस्सा आता है,ओर वो वहासे
चला जाता है।
फोन वाला भैया बोला - बंदर जैसी शक्ल बना
कर चला गया।
साले ने मेरा पूरा टाइम वेस्ट कर दिया।

ALSO READ - भूतो की कहानिया


फिर चिंटू को भूख लगति है।तो चिंटू एक
होटेल में जाकर समोसे का order देता है।
वेइटर बोला की सर समोसे किस में डाल के दु।
चिंटू गुस्से में आकर बोला, ले मेरे पिछवाड़े
में डाल के दे।
फिर वेइटर वहासे चला गया,ओर समोसे प्लेट
में लाकर दिए।फिर चिंटू ने वो समोसे शांति
से खाए।
ओर बहार आया।
बहार आते ही अचानक से चिंटू को एक लड़की
मिली।
चिंटू लड़की को देख कर खुश हो गया।
लड़की चिंटू से पूछती है,की आप यहाँ किसी
गरीब को जानते है।

चिंटू बहोत ही गुस्से में आकर बोला, मेरे पास
क्या मर्सिडीज़ पड़ी है।
इस भेश के पीछे मेरी bmw car पड़ी है क्या।
लड़की बोलती है sorry - sorry,
चिंटू बोला sorry क्या अभी सुन ,हम आलू
का परोठा बनाते है,फिर उसमें से आलू निकाल
कर,दूसरा आलू का परोठा बनाते हैं।
ये सुन ते ही लड़की वहाँ से भाग जाती है।
चींन्तु गुस्से में बोला अबे भागती कहा है।
रुक अरे रुक।
Time vaste कर दिया इस लड़की ने मेरा।

ALSO READ - प्यार वाली स्टोरी


फिर चिंटू मन ही मन खुदको कहता है कि
किस मूरत में,में अपने गांव से निकला था।
पूरा दिन वेस्ट हो गया मेरा।
फिर चिंटू परेशान हो कर जोर से शायरी बोलता
है।

"दुनिया मे रह कर सपनो में खो जाओ,
किसी को अपना बना लो या किसी के हो जाओ,
अगर कुछ भी नही होता है तो,
चदर - तकिया लो और सो जाओ"।

चिंटू की ये शायरी एक लड़का सुन रहा था।
चिंटू की शायरी जैसे खत्म हुई, तो वो लड़का
चिंटू के हाथ मे 2 रुपए थमा कर चला गया।
चिंटू उस लड़के को गुस्से में बोला इधर
आ हरामी में तेरेको भिखारी दिखता हु।की
मुझे 2 रुपए थमा कर चला गया।
वो लड़का बोला मेने तो आपका टेलेन्ट देख
कर दो रुपए दिए थे।

चिंटू बोला ये ले तेरे दो रुपए मुझे नही चाहिए।
वो लड़का धीरे से बोला भलाई का तो जमाना
ही नही रहा।
ये चिंटू सुन गया,ओर गुस्से में आकर बोला,
क्या बोला तू,वो लड़का बोला कुछ नही,
कुछ नही।
चिंटू बोला ठीक है अभी जा यहासे वरना
मार खाएगा।
फिर वो लड़का वहा से चला गया।
फिर चिंटू मन ही मन बोला कैसा,दिन ऊगा है,
आज।
में आज ही आज अपने गांव चला जाऊँगा।
फिर चिंटू अपने गांव वापस चला जाता है।
इस तरह हमारी Hindi story for kids भी खत्म होती है।

       अगली स्टोरी में फिर मिलूंगा।
       ओर कमेंट करिये,ओर बताइये
       केसी लगी आपको हमारी कहानी।

*THANKS FOR READING*

No comments:

Post a Comment