Family Story || परिवार वाली कहानी - amjoys - हिंदी कहानीया

Latest

इस वेबसाइट पर आपको बहोत सारी कहानिया पढ़ने के लिए मिल जाएगी जैसे की ,बच्चो की कहानी,प्यार वाली कहानी,भूतो वाली कहानी और ढेर सारी कहानिया|

Tuesday, August 20, 2019

Family Story || परिवार वाली कहानी

Family Story



Hello guys,कैसे है आप सब मे आज आपके लिए फिरसे नई रुला देने वाली कहानी लेकर आया हु।

Disclaimer - ये स्टोरी सिर्फ काल्पनीय है।
                       इसे दिल पर न ले,ये सिर्फ     
                      मनोरंजन के लिए लिखी गई है।

Family Story Start


Family Story
family

ये बात उस समय की है जब लोग अपने शहेर में मजे से रह रहे थे।उस शहेर में एक family
भी रह रही थी। सभी फैमिली वाले खुशी से अपने दिन बीता रहे थे।
उस family का एक लड़का अब कॉलेज आया था।और उसको पढ़ाई करने के लिए विदेश भेज दिया जाता है।उस लड़के का नाम
वरुण था।

धीरे-धीरे वरुण की पढ़ाई का एक साल बिताता है,फिर दूसरा साल बीतता है।और इस तरह करते-करते वरुण की पढ़ाई पूरी हो जाती है।
अब वरुण वापस india आ जाता है,अपने माता-पिता के घर और जॉब ढूंढने लगता है।और आखिर वरुण को अपने शहेर में जॉब मिल जाती है।वो खुशी से जॉब करने लगता है।

जॉब करते-करते वरुण और भी जगह पर interview देने जाया करता था।और एक जगह उसे जॉब लग गई,और वो जॉब इंडिया नही बल्कि बिदेश में लगी।ये बात वरुण अपने परिवार से करता है,की मम्मी-पापा मुझे नई जॉब लगी है और वो भी विदेश में यह सुन कर उसके परिवार वाले सब खुश हो जाते है।और वरुण को विदेश जानेकी परमिशन दे देते है।

फिर वरुण झा पहेले job करता था वह मन कर देता है,की अब में अगले महीने से यहाँ काम पर नही आऊंगा।ऐसा कह कर वरुण उस कंपनी से निकल जाता है।और अगले महीने विदेश जाने के लिए रवाना हो जाता है।

अब वरुण विदेश की जॉब करते-करते 6 महीने बीत चुके थे।और अब वरुण कंपनी में थोड़े दिन की छुटियां लेकर वापस india आ जाता है।अपने माता-पिता के घर,और वरुण घर पर पहोचता है तो वह देखता है,की उसके पड़ोस में जो uncle रहते थे ना उनकी death हो गई है।
उस अंकल का नाम रमेशभाई था।

फिर वरुण अपने पिताजी से पूछता है,की मुझे आप ये बताइये की ramesh uncle की death कैसे हो गई।में जब 6 महीने पहेले विदेश जाने के लिए निकला था,तब तो रमेश अंकल बिल्कुल ठीक थे,ना अचानक क्या हो गया।
फिर वरुण के पापा वरुण को बताते है कि।
तुजे पता है रमेश का एक बेटा था और उसका नाम prince था।वरुण बोला हा-हा मुझे याद है। तो वो एक दिन तेरी ही तरह विदेश जॉब करने जाता है,और सब परिवार वाले prince की कामयाबी देखकर खुश थे।लेकिन एक दिन प्रिंस विदेश से वापस india आता है।और रमेश देखता है,कि प्रिंस ने शादी करली और हमे बताये बिना,ये बात का रमेश को सदमा लग गया था।और प्रिंस अपने पिता से यानी कि रमेश से ये बात कर रहा था कि अब हम इंडिया
नही रहेंगे।रमेश बोलै इस क्यों बेटा हम क्यों india में नही रहेंगे।प्रिंस बोला अब में बार बार
India नही आ सकता मेरा पूरा काम विदेश में ही रहता है।इसीलिए में आपसे कहता हूं कि आप भी चलिए हमारे साथ विदेश।
Family Story

Family 


तभी रमेश बोला नही में विदेश नही आऊंगा।इतना कह कर रमेश अपने कमरे में चला जाता है।फिर अगले दिन सुबह prince,रमेश के कमरे में जाता है।रमेश को लगाकि मेरा बेटा मुझ से माफी मांगने के लिए आया है।लेकिन ऐसा बिल्कुल नही था।प्रिंस, रमेश के कमरे में ये कहने गया था कि पापा हम जा रहे विदेश।रमेश बोला लेकिन बेटा india में क्या प्रॉब्लम है,तुजे जॉब करने में।प्रिंस बोलै पापा आप समझ क्यों नही रहे है,मेरा पूरा काम विदेश में ही रहता है।सिर्फ आपके लिए मुझे हर महीने इंडिया आना पड़ता है।

रमेश अपने बेटे को बहोत रोकने की कोशिश करता है।लेकिन प्रिंस नही रुकता,ऐसे करते-करते एक महीना बिताता है,फिर दूसरा महीना
और रमेश हालत दिन-ब-दिन खराब होती जा रही थी।फिर हम सब मिल कर उसके बेटे यानी प्रिंस को फोन करते है,की तुम जल्दी से इंडिया वापस आ जाओ।प्रिंस बोलै क्यो।हमने कहा कि तुम्हारे पिताजी की हालत बहोत ही खराब हो चुकी है।लेकिन प्रिंस फोन काट देता है।और हमारी बात को सीरियस नही लेता है।

दिन-ब-दिन रमेश की हालत हद से ज्यादा खराब होती चली जाती है।फिर एक दिन उसकी मौत हो जाती है।फिर प्रिंस india आता है।लेकिन प्रिंस ने इंडिया आने में बहोत ही देर कर दी होती है।

वरुण बोला तो पापा प्रिंस अभी यही पर होगा na,वरुण के पिता जी बोले है बेटा यही पर है।
वरुण बोला की पापा में प्रिंस से मिल कर आता हूं।

फिर वरुण प्रिंस को मिलने प्रिंस के घर जाता है।और वरुण बोला अरे प्रिंस केस है,तू प्रिंस ने कुछ ठीक से जवाब नही दिया।वरुण फिर बोला अरे प्रिंस अब तो इंडिया ही रहे गाना विदेश तो नही जाएगाना।प्रिंस गुस्से से बोला तुम-तुम तुम्हारे काम से काम रखो मुझे advice देने की जरूर नही है,की में इंडिया रह या विदेश।वरुण बोला अरे यार सॉरी तूम तो
नाराज हो गई।इतना कह कर वरूण वहासे अपने घर जाने के लिए निकल जाता है।
प्रिंस भी बहोत दुःखी था।क्योंकि उसने अपने पापा की बात न मानी और विदेश चला गया।

प्रिंस भी पत्नी भी प्रिंस को कहने लगती है चलो न फिरसे हम विदेश चले जाते है।मुझे इंडिया में नही रहना।प्रिंस गुस्से में आकर अपनी पत्नी से बोलता है,की तुम्हे अगर विदेश जाना है तो जाओ में नही आऊंगा,अभी मेरी माँ ज़िंदा है।में अपनी माँ के साथ ही रहूंगा।ज्यादा पैसा कमाने के चककर में मैने अपने पिताजी को खो दिया।
अब में अपनी माँ को खोना नही चाहता।
इतना बोलकर प्रिंस खूब रोने लगता है।

प्रिंस को अपनी गलती का एहसास तो हुआ,लेकिन तब-तक बहोत ही देर हो चुकी थी।अब प्रिंस विदेश नही जाने वाले था।वो अपने माँ के साथ इंडिया ही रहेंगे।और इस बात को प्रिंस की पत्नी भी मान गई कि हम अब india ही रहेंगे।

वरुण अपने घर पहोचते अपने पिता जी को बोलते है।पापा आप tension मत लीजिये में प्रिंस की तरह आप से पूछे बिना कोई काम नही करूँगा।और ऐसा काम भी नही करूँगा जिससे
मेरे माता-पिता का सर जुक जाए।
वरुण के पिता जी बोले कि बेटा तुम मुजे ये बात नही कहते तो भी मुझे तुम पर पूरा विश्वास है,की तुम हमारे परिवार का नाम नही डुबाओंगे।
वरुण बोला जी पापा में अपने परिवार का नाम बिल्कुल भी नही डुबाउंगा।
अंत मे सब लोग खुशी से रहने लगते है।
प्रिंस को भी अब समझ मे आ चुका था,की परिवार से बढ़ कर कुछ नही होता।

बोध-1) - पैसे कमाने के चक्कर मे ये मत भूल
          जाना की आपका भी एक परिवार
           है,अपने परिवार को भी थोड़ा सा समय
          दीजिये।

बोध-2)- हमेंशा ये बात याद रखना जिसने
             आपको बड़ा किया है,उसके सामने
             कभी बड़ा नही बनते।

और इसी तरह हमारी

Family Story

 खत्म होती है।अगली कहानी में फिरसे आपसे मुलाकात होगी तबतक के लिए अलविदा।

*कहानी पढ़ने के लिए धन्यवाद*

No comments:

Post a Comment